Saturday, July 12, 2014

कुछ भी न रहा..

सुनने के, सुनाने के लिए कुछ भी न रहा
अब तुमको मनाने के लिए कुछ भी न रहा

यादों को तेरी, आँख से मैंने सुखा दिया
पलकों को भिगाने के लिए कुछ भी न रहा

बेनूर रहा घर मेरा इस साल दिवाली
कंदील सजाने के लिए कुछ भी न रहा

सब रंग न मालूम कहाँ खो गए, ऐ दिल!
तस्वीर बनाने के लिए कुछ भी न रहा

कागज़ पे आज बेहिसी ऐसी हुई तारी
स्याही को सुखाने के लिए कुछ भी न रहा

मय के सभी प्याले भी तो तुम तोड़ गयी हो
ग़म अपना भुलाने के लिए कुछ भी न रहा

शाइर हो 'तख़ल्लुस', ज़रा ईमान से रहो
मजबूर कहाने के लिए कुछ भी न रहा
____________________________________
2334 Hours, Friday, July 11, 2014

2 comments:

  1. ब्लॉग बुलेटिन आज की बुलेटिन, थम गया हुल्लड़ का हुल्लड़ - ब्लॉग बुलेटिन , मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    ReplyDelete

आपके विचार ……

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...