Thursday, July 31, 2014

माँ की उपमा तो केवल माँ ही रहती है

बूझती कभी ख़ुद एक पहेली रहती है
माँ बैठे-बैठे रिश्ते बुनती रहती है

नज़रों को दौड़ा लेती है हर कोने में
माँ घर की सब दीवारें रँगती रहती है

जो भी हो थाह समन्दर की, उससे ज़्यादा
माँ गहरी, गहरी, गहरी, गहरी रहती है

धीरे-धीरे जैसे-जैसे मैं बढ़ता हूँ
माँ वैसे-वैसे ऊँची उठती रहती है

घर का सारा दायित्व लिए अपने सिर पर
माँ नभ में बादल बनकर तिरती रहती है

हाँ, बचपन की यादें बन कर भी कभी-कभी
माँ मेरी आँखों से भी बहती रहती है

मैं चाहे जिसमें खोज-खोज कर थक जाऊँ
माँ की उपमा तो केवल माँ ही रहती है
______________________________
0356 Hours, Thursday, July 31, 2014

3 comments:

  1. हाँ, बचपन की यादें बन कर भी कभी-कभी
    माँ मेरी आँखों से भी बहती रहती है
    मां की यादें आँखें भिगो गयी
    भावमय कविता
    आशीर्वाद़्

    ReplyDelete
  2. माँ का स्थान कोई नहीं ले सकता

    माँ की यादों में आँख डूब भिंगोती सुन्दर रचना

    ReplyDelete
  3. आपका ब्लॉग देखकर अच्छा लगा. अंतरजाल पर हिंदी समृधि के लिए किया जा रहा आपका प्रयास सराहनीय है. कृपया अपने ब्लॉग को “ब्लॉगप्रहरी:एग्रीगेटर व हिंदी सोशल नेटवर्क” से जोड़ कर अधिक से अधिक पाठकों तक पहुचाएं. ब्लॉगप्रहरी भारत का सबसे आधुनिक और सम्पूर्ण ब्लॉग मंच है. ब्लॉगप्रहरी ब्लॉग डायरेक्टरी, माइक्रो ब्लॉग, सोशल नेटवर्क, ब्लॉग रैंकिंग, एग्रीगेटर और ब्लॉग से आमदनी की सुविधाओं के साथ एक सम्पूर्ण मंच प्रदान करता है.
    अपने ब्लॉग को ब्लॉगप्रहरी से जोड़ने के लिए, यहाँ क्लिक करें http://www.blogprahari.com/add-your-blog अथवा पंजीयन करें http://www.blogprahari.com/signup .
    अतार्जाल पर हिंदी को समृद्ध और सशक्त बनाने की हमारी प्रतिबद्धता आपके सहयोग के बिना पूरी नहीं हो सकती.
    मोडरेटर
    ब्लॉगप्रहरी नेटवर्क

    ReplyDelete

आपके विचार ……

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...