Sunday, September 01, 2013

आओ..!

अन्धा है कानून, न इसको दीखे
लम्बे हाथों से भी किसको खींचे?

संविधान अविधान हुआ जाता है!

भारत का निर्माण हुआ जाता है!

Courtesy: Google

आयुर्बन्धन की यह विषम कड़ी है
जघन्य अपराधों को छूट बड़ी है

भारत की बेटियाँ सिसकती जायें
हम क्यों हाथ धरे बैठे रह जायें?

निज-कर्तव्यों की कर लें अब रक्षा
इतिहासों ने नहीं किसी को बख्शा

बदलें गीता लोकतन्त्र की, आओ!
सीता को सुपुनीता करने आओ!
_______________________________________
Written : 1728 Hours, Sunday, September 01, 2013

3 comments:

  1. वाकई कानून अंधा ही हो गया है..

    ReplyDelete

  2. बहुत अच्छी रचना ! आपको बहुत बहुत बधाई !


    हिंदी
    फोरम एग्रीगेटर पर करिए अपने ब्लॉग का प्रचार !



    आप अपने ब्लॉग का यहाँ
    प्रचार कर के नए पाठक जुटा सकते है !

    ReplyDelete

आपके विचार ……

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...