Sunday, June 26, 2011

कुछ है


..अब इस बार कुछ थोड़ा सा अलग...


न सुनने को कुछ है, न कहने को कुछ है
न तो आज दिल के बहकने को कुछ है

मेरी आरज़ू की बुलन्दी की खातिर
न दरिया मेँ कुछ है, न सहरा मेँ कुछ है

बताए ज़रा चाँद को भी तो कोई
न उसकी चमक मेँ दहकने को कुछ है

सूरज से कह दो मशालेँ जला ले
अभी और उसमेँ न जलने को कुछ है

गलतफ़हमियोँ मेँ है फूलोँ की बस्ती
कि हर पल वहाँ पर महकने को कुछ है

कँटीली सड़क पर ज़रा चल के देखो
तो मालूम होगा लहकने को कुछ है

बच्चे की किलकारियोँ की तरह से
अभी ज़िन्दगी मेँ कहकने को कुछ है

वो चिड़ियोँ के जैसे अभी घोँसलोँ मेँ
नयी भोर है तो चहकने को कुछ है

10 comments:

  1. meine tumhari i hai ..ab se pahle kuchh geet aur tukbandi padhi thhee..achha likh rahe ho ..ek din tum zaroor chha jaaoge...

    ReplyDelete
  2. ाच्छी कोशिश है लेकिन तुकबन्दी मे भी शब्दों का सही अर्थ निककले यही को शिश होनी चाहिये लहकने कहकने शब्द जचे नही। अन्यथा न लें भाव अच्छे हैं। शुभकामनायें।

    ReplyDelete
  3. बहुत सुंदर लिखा आपने... शेयर करने के लिए थैंक्स ......

    ReplyDelete
  4. बच्चे की किलकारियोँ की तरह से
    अभी ज़िन्दगी मेँ कहकने को कुछ है

    masum pyare bhav liye rachna..... bahut sunder panktiyan

    ReplyDelete
  5. प्रयास अच्छा है. इसके पहले वाली कविता ज्यादा बेहतर लगी. भविष्य के लिए शुभकामनायें.

    ReplyDelete
  6. आपकी किसी पोस्ट की चर्चा है नयी-पुरानी हलचल पर 24-9-11 शनिवार को ...कृपया अनुग्रह स्वीकारें ... ज़रूर पधारें और अपने विचारों से हमें अवगत कराएं ...!!

    ReplyDelete
  7. Excellent blog post, I have been reading into this a bit recently. Good to hear some more info on this. Keep up the good work!

    ReplyDelete
  8. simple though thoughtful... thats too a big art... waiting for your next post.

    ReplyDelete
  9. कल 16/05/2014 को आपकी पोस्ट का लिंक होगा http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर
    धन्यवाद !

    ReplyDelete

आपके विचार ……

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...